रविशंकर प्रसाद ने किया रेडियो फाइबर सेवा का उद्घघाटन

560
0
SHARE

केंद्रीय विधि एवं न्याय, संचार तथा सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद द्वारा आज दिनांक 22.09.2020 को बिहार के पांच टेलीफोन एक्सचेजों पटेल नगर, महेन्द्रु, फतुहां, दनियावां और खुसरूपुर पर आॅप्टिकल लाइन टर्मिनल भारत फाइबर ओएलटी का नई दिल्ली से वीडियो काॅन्फ्रेसिंग के माध्यम से उद्घाटन करके इन स्थानों से नई रेडियो फाइबर सेवा भारत एयर फाइबर सेवा का उद्घाटन किया गया। यह माननीय मंत्री द्वारा ’’सभी को ब्राॅडबैंड सेवा’’ उपलब्ध कराने के संकल्प को साकार करने की दिशा में बिहार के ग्रामीण क्षेत्रों के लिए दिया गया एक अति महत्वपूर्ण उपहार हैै।

इस अवसर पर माननीय मंत्री जी ने यह अवगत कराया कि बिहार में 45,945 गांवों को 1,000 करोड़ रूपए के निवेश द्वारा 1,000 दिनों के भीतर आॅप्टिकल फाइबर से जोड़ दिया जाएगा। माननीय मंत्री जी द्वारा यह घोषणा भी की गई कि बिहार के अन्य स्थानों पर भी भारत एयर फाइबर सेवा की अतिशीघ्र संस्थापना की जाएगी।

माननीय केंद्रीय मंत्री जी द्वारा आज जिस नई रेडियो फाइबर सेवा का उद्घाटन किया गया है उस तकनीक के तहत लगभग 6 किलोमीटर के दायरे में हाईस्पीड ब्राॅडबैंड सुविधा उपलब्ध कराई जा सकती है। इस तकनीक में पूरी कवरेज के लिए 3 सेक्टर एंटीना का उपयोग किया जाता है। एक सेक्टर एंटीना के द्वारा 60 कनेक्शन दिए जा सकते हैं और एक ओएलटी से कुल 180 कनेक्शन दिए जा सकते हैं। भारत एयर फाइबर सिस्टम में पूरी तरह से वायरलेस तकनीक का इस्तेमाल किया गया है जिससे इस प्रणाली द्वारा उन ग्रामीण व बाहरी शहरी क्षेत्रों में भी तेज-प्रवाह इंटरनेट सुविधा उपलब्ध कराई जा सकेगी जहां आॅप्टिकल फाइबर द्वारा इंटरनेट सुविधा उपलब्ध कराना संभव नहीं है। यह सेवा गैर लाइसेंस स्पेक्ट्रम पर कार्य करती है जिसके कारण कोई व्यवधान नहीं होता और सेवा गुणवत्ता उच्च स्तर की रहती है। नई रेडियो फाइबर सेवा शीघ्र स्थापित की जा सकती है तथा रेडियो तरंगों पर आधारित होने और इसमें फाइबर का इस्तेमाल न किए जाने के कारण यह तेज और भरोसमंद ब्राॅडबैंड का अच्छा साधन है। इस सेवा के रख-रखाव पर बहुत कम खर्च किए जाने की आवश्यकता है तथा इंटरनेट की स्पीड फाइबर एफ टी टी एच के समान है। भारत एयर फाइबर की न्यूनतम दर मात्र 349 रूपए प्रतिमाह रखी गई है और यह ग्रामीण एवं दुर्गम इलाकों के लिए अत्यंत सस्ती और उत्कृष्ट ब्राॅडबैंड सेवा है। गांवों में जहां डिजिटल शिक्षा, डिजिटल कौशल व टेली-मेडिसिन के भारी अवसर हैं और तेज प्रवाह इंटरनेट का इसमें बड़़ा महत्व है, यह सेवा एक गेम चैंजर सिद्ध हो सकती है। भारत एयर फाइबर आसानी से लगाया जा सकता है और माननीय प्रधानमंत्री द्वारा निर्धारित किए गए अनुसार ’’1000 दिनों में देश के सभी 6 लाख से अधिक गांवों ’’ को ब्राॅडबैंड सुविधा उपलब्ध कराने के लक्ष्य की प्राप्ति में एक अहम साधन है।

इस अवसर पर माननीय मंत्री जी ने यह भी कहा कि ’’आत्म निर्भर भारत’’ के तहत ग्रामीण युवाओं को गांवों में ही रोजगार प्रदान करने का भारत सरकार का स्वप्न तकनीक के माध्यम से ही पूरा होगा। देश के युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने की चुनौती को पूरा करने के दृष्टिगत युवाओं को नई स्टार्टअप कंपनियां आरंभ करनेे के लिए 25 लाख रूपए का अनुदान दिया जाएगा तथा संचार अवसरंचना के क्षेत्र में कौशल विकसित करने की शुरूआत की जाएगी।

LEAVE A REPLY