जम्मू कश्मीर में कुछ होना तय है!

622
0
SHARE

जम्मू कश्मीर में कुछ बड़ा होने की आशंका को लेकर काफी अफरातफरी का माहौल बना हुआ है पर्यटकों का वापस अपने घरों को लौटना लगातार जारी है अमरनाथ यात्रा के बाद माछिल माता यात्रा भी रोकी गई यात्रियों को बीच रास्ते से बुलाया गया। लगभग 20000 पर्यटको में से 95% वापस चले गए, 6000 लोगों को हवाई मार्ग से निकाला गया।
कश्मीर घाटी में हालत खराब होना कोई नई बात नहीं है लेकिन सरकार का हालात खराब होने के मद्देनजर और साधारण तैयारी करते दिखना यह लोग बीच काफी आशंका पैदा कर रही है कुछ लोगों का कहना है कि कुछ तो अलग होना तय है। हर कोई अपने हिसाब से अनुमान लगा रहे हैं इसी बीच कुछ दिन पहले सेना ने कश्मीर में बड़ी घुसपैठ को नाकाम किया 7 पाकिस्तानी सैनिक और आतंकी मारे गए कुपवाड़ा के केरल में ।भारतीय सैनिकों ने ढेर कर दिया। विदेशी सैलानी भी जा चुके हैं ब्रिटेन ,जर्मनी और ऑस्ट्रेलिया ने अपने नागरिकों को जम्मू-कश्मीर अभी ना जाने की सलाह दी है लोगों को कश्मीर से निकालने के लिए वायु सेना ने c-17 ग्लोबमास्टर भी तैनात किया है एनआईटी श्रीनगर को बंद कर दिया गया है लगभग 2000 छात्र लौट चुके हैं सारे कॉलेज और उसके हॉस्टल को भी खाली कर दिया गया है हड्डी और जोड़ों के सरकारी अस्पताल में किसी तरह की छुट्टी पर रोक है अस्पतालों में इमरजेंसी का पूरा पुख्ता इंतजाम किया गया है स्थानीय लोगों ने अभी से खाने-पीने की चीजें इकट्ठा करना शुरू कर दिया है और पेट्रोल पंप पर गाड़ियों की भरमार लगी है। हालात यह है कि ना पुलिस ,ना राजनेता, ना प्रशासन और ना ही आम लोगों में किसी को कोई अंदाजा नहीं है कि क्या कुछ होने वाला है लेकिन सुरक्षाबलों का इस संख्या में यहां आना, अमरनाथ यात्रा का स्थगित हो जाना, स्कूल कॉलेजों को बंद कर देना , जगह-जगह मेडिकल एमरजैंसी रूम बनाए जाना बहुत ज्यादा कड़े कदम है यह सब चीजें आपस में मेल नहीं खा रही हैं शायद कुछ बड़ा होने वाला है ऐसा कुछ विशेषज्ञों का कहना है वहीं फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती दोनों सरकार को इस मुद्दे पर हमेशा से धमकाते रहे हैं अब वे अपने सुर बदलते नजर आए और दोनों ने एक साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करके लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। राज्यपाल सत्यपाल मलिक जी का कहना है कि कुछ भी छुपा कर नहीं होगा जो होगा सबके सामने होगा। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कैबिनेट की बैठक बुलाई है अब देखना है कि इस बैठक में क्या चर्चा होती है और किस तरह का फैसला लिया जाएगा फैसला जो भी हो भारतीय हित में ही होगा यह तो तय है लेकिन इस बैठक से पड़ोसी देश पाकिस्तान की नींद काफी ज्यादा हराम है या शायद नींद में भी कांप रहे है। पाकिस्तानी मीडिया में कश्मीर मुद्दे को लेकर काफी ज्यादा चर्चा हो रही है कि क्या करेंगे मोदी उनके दिमाग में चल क्या रहा है ? वैसे भी पाकिस्तान की तो हालत खराब होनी तय है क्योंकि बेगानी शादी में ‘बेगाना’ अब्दुल्ला दीवाना.

Report: Yash raj.

LEAVE A REPLY