पटना में हेल्थ टॉक शो के माध्यम से छात्राओं ने जाना बिगडे़ स्वास्थ्य की आपात व्यवस्था

464
0
SHARE

पटना: निजी और व्यावसायिक पढ़ाई के दौरान छात्र-छात्राएं स्वास्थ्य संबंधी छोटी बड़ी जागरूकता को लेकर अनभिज्ञ रहते हैं ।जबकि हर शिक्षा के साथ स्वास्थ्य संबंधित शिक्षा की भी जानकारी बच्चों को होनी चाहिए। यदि यात्रा के दौरान दुर्घटना होती हो या सफर के दौरान अन्य यात्री जैसे महिला यहां कोई पुरुष किसी अन्य रोग के पीड़ित हो उन्हें आपातकालीन चिकित्सा व्यवस्था देने की सूझबूझ होनी चाहिए , ताकि दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति को तत्काल समुचित चिकित्सा सेवा मिल जाए । उक्त बातें इंटरनेशनल स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के सभागार में डॉ गौतम आर प्रसाद ने यहां आयोजित निशुल्क स्वास्थ्य शिविर में आयोजित छात्राओं को स्वास्थ्य जागरूकता सेमिनार में कही.

आज आईएसएम सभागार में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में यहां के छात्राओं के लिए एक दिवसीय स्वास्थ्य शिविर एवं महिलाओं के लिए स्वास्थ्य जागरूकता विषयक पर सेमिनार का आयोजन किया गया था. सेमिनार में संस्थान के लगभग 300 छात्राओं ने भाग लिया.

सेमिनार में प्लास्टिक सर्जन शब्बीर अहमद वारसी, स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर नेहा, नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉक्टर मधु , हड्डी रोग विशेषज्ञ गौतम आर प्रसाद ,डॉ रत्नेश सिंह, कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अभिषेक आनंद आदि ने महिलाओं से जुड़ी हुई स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं को लेकर छात्राओं को जागरूक किया.

डॉक्टर शब्बीर अहमद ने लड़कियों के चेहरे जल जाने या दाग होने, डॉ नेहा ने पीरियड के दौरान होने वाली समस्या, डॉक्टर गौतम आर प्रसाद ने दुर्घटना के दौरान हाथ या पैर फ्रैक्चर होने पर किस अंग को सावधानी से उठाना चाहिए, वहीं डॉ रत्नेश महिलाओं में बढ़ रही आर्थराइटिस की समस्या और डॉक्टर अभिषेक आनंद ने महिला में हो रही ब्रेस्ट कैंसर की समस्या पर खुलकर विचार रखे । कार्यक्रम के दौरान हेल्थ एजुकेशन को लेकर प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम भी किए गए जिसमें विजेताओं को पुरस्कृत भी किया गया.

उस कार्यक्रम के आयोजक राज सिन्हा का यह मानना है कि इतनी बड़ी आबादी वाले देश में जब तक डॉक्टर गंतव्य पर पहुंचेंगे तब तक बहुत देर हो चुकी होगी ऐसे में प्रत्येक शिक्षा के साथ हेल्थ एजुकेशन की अनिवार्यता होनी चाहिए । और आज कि यहां होने वाली हेल्थ टॉक शो का उद्देश्य यह था कि लड़कियां अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक तो हो ही साथ ही अपनी आने वाली पीढ़ी को भी सुरक्षित रख सके.

LEAVE A REPLY