हेलमेट की अर्थी यात्रा निकाल हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार जीवन सुरक्षा का देंगे संदेश.

639
0
SHARE

हेलमेट की अर्थी निकाल कर हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार जीवन सुरक्षा का देंगे संदेश. सड़क दुर्घटना से 2020 में होने वाली मौत को रोकने का प्रयास भारत के सभी माता पिता को जागरूक कर रहे हैं जिनकी एक संतान है. भारत में प्रतिवर्ष डेढ़ लाख लोगों की मौत होती है जिसमें 50 हजार वैसे बच्चों की मौत होती है जो अपने माता-पिता के घर का चिराग होते हैं. जो 2020 में फिर से डेढ़ लाख लोगों की मौत होगी और हजारों घरों के चिराग बुझ जाएंगे. लेकिन इस बार भारत के हर मां को यह संदेश देना चाहते हैं भविष्य में दुर्घटना होने से पहले सभी माता-पिता अपने चिराग की स्वयं रक्षा करें जागरूकता का शपथ देकर. क्योंकि सड़क दुर्घटना एक महामारी जैसी विशाल समस्या से भारत जुझ रहा है. आज देश में सभी लोगों की जरूरत है जागरूक होने का ताकि इस समस्या पर भारत की जीत हो सके.

हेलमेट की शव यात्रा पुराने हेलमेट और बच्चों के पुराने झोले के साथ ग्रेटर नोएडा से पदयात्रा चालू होगी 14 फरवरी सुबह 11:00 बजे से ग्रेटर नोएडा के सभी स्कूल होते हुए नॉलेज पार्क से नोएडा निकलेगी नोएडा से फिर दिल्ली इंडिया गेट 16 फरवरी को पहुंचेगी यह पदयात्रा. इंडिया गेट के बाद सीधे श्मशान घाट जाकर समाप्ति होगी यह पदयात्रा.

आज हम इस समस्या से लड़ाई के लिए समाज के अंदर और सरकार के प्रति एक आवाज उठाई है जो घर के चिराग बुझने वाले हैं. हम उसका समाधान अभी से ही गार्जियन, स्कूल, कॉलेज और सरकार को जागरूक करना चाहते हैं. भारत के अंदर 4 साल से ऊपर के बच्चों को स्कूल में दाखिले के वक्त एक नए हेलमेट देने का नियम लागू करें. और सरकार प्रतिवर्ष स्कूलों में चेंज होने वाली पुस्तकों पर लगाम लगाए. जो खर्च होने वाली राशि कॉपी किताब पर होती है उस पैसे से माता पिता अपने बच्चे को सड़क दुर्घटना बीमा कर सकते हैं और बच्चे को हेलमेट भी दे सकते हैं. और यही सोशल भावना उन बच्चों में देश के प्रति जागरूक करना है अपने समाज को साक्षर करने का जो किसी जरूरतमंद बच्चे तक अपनी पढ़ी हुई पुस्तक का योगदान देकर भारत को सौ प्रतिशत साक्षर करने में.

जो लोग भी 3 दिन हेलमेट की शव यात्रा अभियान में भाग लेंगे उन्हें 5 लाख का बीमा एक सर्टिफिकेट और एक हेलमेट दिया जाएगा.

LEAVE A REPLY